साहब नाथ पास किया एमए, फिर बना सँपेरा

राम दत्त त्रिपाठी। आइये! मिलते हैं एमए पास सँपेरा साहब नाथ से। 

साँप को देखते ही माँ में ख़ौफ़ हो जाता है।

लेकिन हम सँपेरों के गाँव में हैं, इसलिए डर की कोई बात नहीं। 

साहब नाथ ने सोचा था कि वह सँपेरे का धंधा छोड़ देंगे।

इसलिए रायबरेली के फ़िरोज गांधी डिग्री कालेज से एमए तक पढ़ाई की। 

पर नौकरी न मिलने से वापस सँपेरे का पुश्तैनी काम करने लगे।

एम ए पास सँपेरा साहब उन  करोड़ों शिक्षित बेरोज़गारों में हैं जो डिग्री लेकर रोज़गार के लिए दर-दर  भटकते हैं।

कारण यही कि हमारी शिक्षा युवकों को केवल किताबी ज्ञान देती है, उन्हें आत्मनिर्भर नहीं बनाती।

साहब तो अपने पुश्तैनी पेशे में वापस चले गए।

लेकिन करोड़ों ऐसे लोग लोग भी हैं जो नौकरी के लिए दर – दर ठोकर खाते रहते हैं. 

कृपया देखें 

The post साहब नाथ पास किया एमए, फिर बना सँपेरा appeared first on Media Swaraj | मीडिया स्वराज.

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com